समाचार открытые
[search 0]
Больше

Download the App!

show episodes
 
Loading …
show series
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... कोविड-19 के उपचार के लिये नई एण्टीवायरल दवा से मदद मिलने की उम्मीद, ज़रूरतमन्द देशों में उपलब्धता बढ़ाने के लिये लाइसेंस समझौता तम्बाकू का सेवन करने वाले लोगों की संख्या में गिरावट दर्ज, इस्तेमाल पर रोक के लिये वैश्विक निवेश का आहवान यूएन की विशेष प्रतिनिधि की चेतावनी, अफ़ग़ान जनता का साथ, इस लम्हे छोड़ना, होगी…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ​स्कॉटलैण्ड के ग्लासगो में यूएन जलवायु सम्मेलन पर टिकी दुनिया की निग़ाहें, अन्तिम चरण की वार्ताओं का दौर, बढ़ा निर्धारित समय से आगे यूएन महासचिव ने कहा, ग्लासगो सम्मेलन में अब तक हुई घोषणाएँ उत्साहजनक, मगर पर्याप्त नहीं एक ख़ास बातचीत ग्लासगो सम्मेलन में हिस्सा ले रहीं भारत की युवा जलवायु कार्यकर्ता हीता लखानी …
 
स्कॉटलैण्ड के ग्लासगो शहर में संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन (कॉप26) में हिस्सा ले रहीं, भारत की एक युवा जलवायु कार्यकर्ता हीता लखानी का कहना है कि हाल के वर्षों में जलवायु वार्ताओं में युवाओं की भूमिका बढ़ी है. हीता लखानी मुम्बई में एक जलवायु शिक्षिका हैं, और युवा नेतृत्व वाले संगठनों के समूह, YOUNGO के लिये ‘ग्लोबल साउथ’ की समन्वयक हैं. हीता, भार…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ग्लासगो में चल रहे जलवायु सम्मेलन कॉप26 में, तापमान वृद्धि और जलवायु वित्त जैसे प्रमुख मुद्दों पर ज़ोरदार चर्चा. कोरोनावायरस महामारी के मामलों में एक बार फिर उछाल, इस बीच भारत में निर्मित कोवैक्सीन के आपात प्रयोग को मिली मंज़ूरी. इथियोपिया के टीगरे क्षेत्र में, गम्भीर मानवाधिकर हनन के मामलों पर चिन्ता, लड़ाई तु…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... स्कॉटलैण्ड के ग्लासगो में यूएन के वार्षिक जलवायु सम्मेलन से ठीक पहले, महासचिव की चेतावनी, बैठक के विफल होने का गम्भीर जोखिम, महत्वाकाँक्षी जलवायु कार्रवाई का आहवान एशियाई देशो में पिछले साल चरम मौसम घटनाओं से हज़ारों लोगों की मौत, भीषण आर्थिक नुक़सान कोविड-19 का ख़ात्मा करने के लिये वैश्विक कार्यक्रम को अब भी, …
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... यूएन प्रमुख की पुकार - आधी आबादी यानि महिलाओं को नहीं रखा जा सकता, अन्तरराष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा से बाहर. तापमान वृद्धि डेढ़ डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के रास्ते से बहुत भटकी हुई है दुनिया. कोरोनावायरस महामारी से, मारे गए स्वास्थ्यकर्मियों की संख्या एक लाख 80 हज़ार तक होने का अनुमान. भारत में कोरोनावायरस …
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... कोविड-19 के मामलों में कमी, मगर वैक्सीन विषमता अब भी बरक़रार, प्रदूषण रहित व टिकाऊ परिवहन की सुलभता पर एक विशेष सम्मेलन, आलस और निष्क्रियता से बढ़ रही हैं बीमारियाँ, धनी देशों में हैं ज़्यादा लोग हैं आलसी, भारत में शिक्षकों की महत्ता व स्थिति पर, यूनेस्को की एक ख़ास रिपोर्ट, और, विश्व खाद्य दिवस के मौक़े पर, भा…
 
दुनिया आज के दौर में, जलवायु संकट और जैव विविधता की हानि के कारण, बढ़ती भुखमरी का सामना कर रही है. ऐसे में, खाद्य व पोषण सुरक्षा एवं आजीविका की रक्षा के लिये तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है, विशेष रूप से हाशिये पर धकेले गए समुदायों के लोगों के लिये. यूएन न्यूज़ की अंशु शर्मा ने विश्व खाद्य दिवस, 2021 पर भारत में संयुक्त राष्ट्र के कृषि संगठन (एफ़एओ)…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... अफ़ग़ानिस्तान के कुन्दुज़ की शिया मस्जिद में बम हमले की कड़ी निन्दा, बड़ी संख्या में हताहत हुए लोग. अफ़ग़ानिस्तान में विस्थापितों व निर्बल समुदायों की ज़रूरतों को पूरा करने के लिये, यूएन एजेंसियों ने प्रयास तेज़ किये. कोविड-19 संकट से बाहर आने के लिये यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने पेश की नई रणनीति, साल के अन्त तक 40…
 
संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, दुनिया की अनमोल वैश्विक परिसम्पत्तियों की रक्षा और साझा आकांक्षाओं को पूरा करने की ख़ातिर, तत्काल कार्रवाई का आहवान करते हुए, टिकाऊ विकास लक्ष्यों के नए पैरोकारों के नामों की घोषणा की है. इनमें से एक हैं, भारत से नोबेल शान्ति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी. ये सभी पैरोकार, जलवायु कार्रवाई, डिजिटल विभाजन,…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... यूएन महासभा अध्यक्ष ने कहा - साझा चुनौतियों से निपटने का एक मात्र रास्ता है – बहुपक्षवाद, वार्षिक उच्च स्तरीय जनरल डिबेट, ऐहतियाती उपायों के बीच सम्पन्न. दुनिया भर में क़रीब 80 करोड़ लोग भूखे पेट सोने को मजबूर, फिर भी लगभग एक तिहाई भोजन हो जाता है बर्बाद. जलवायु कार्रवाई में युवाओं से भी अपनी आवाज़ बुलन्द करते …
 
अफ़ग़ानिस्तान में मौजूदा राजनैतिक, सुरक्षा और मानवीय संकट के कारण गम्भीर हालात हैं और देश की लगभग आधी आबादी को मानवीय सहायता की आवश्यकता बताई गई है. संयुक्त राष्ट्र की कई एजेन्सियाँ ज़रूरतमन्दों तक मदद पहुँचाने के काम में मुस्तैदी में जुटी हैं. मगर, उन्हें संसाधनों की कमी के कारण कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, जिसके मद्देनज़र, संयुक्त राष्…
 
संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अवसर पर, यूएन रेडियो से मुख्य समाचार.
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... यूएन महासभा के 76वें सत्र की उच्चस्तरीय जनरल डिबेट - हाइब्रिड रूप में, देशों के प्रतिनिधियों ने रखा वैश्विक मुद्दों पर अपना नज़रिया. Racism यानि नस्लभेद के ख़िलाफ़ बिगुल बजाने वाले डरबन घोषणा पत्र की 20वीं वर्षगाँठ, किसी भी तरह के भेदभाव के ख़िलाफ़ लड़ाई जारी रखने की पुकार. दुनिया भर में करोड़ों लोगो के पास नही…
 
संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अवसर पर, यूएन रेडियो से मुख्य समाचार.Sachin Gaur / UN News Hindi
 
संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अवसर पर, यूएन रेडियो से मुख्य समाचार. ------------------------------------------------------------------------ संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने बुधवार को एक उच्चस्तरीय सम्मेलन में कहा है कि नस्लवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिये, 20 वर्ष पहले एक ऐतिहासिक घोषणा पत्र पारित किया गया था, लेकिन भेदभाव आज…
 
यूएन महासभा के 76वें सत्र के अवसर पर, यूएन रेडियो से मुख्य समाचार...Sachin Gaur / UN News Hindi
 
यूएन महासभा के 76वें सत्र के अवसर पर, यूएन रेडियो से मुख्य समाचार...Mehboob Khan / UN News Hindi
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ. यूएन महासभा का 76वाँ सत्र हुआ शुरू, कोविड-19 के कारण, ये सत्र भी होगा चुनौतीपूर्ण. संयुक्त राष्ट्र संगठन के कामकाज की वार्षिक रिपोर्ट महासभा में पेश, कोरोनावायरस महामारी के दौर में, संगठन का अनेक क्षेत्रों में रहा सक्रिय सहयोग व समर्थन. कोविड-19 महामारी के बावजूद, जलवायु परिवर्तन की रफ़्तार में नहीं हुई है कोई कम…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ. यूएन महासचिव ने पेश किया – Common Agenda, बड़ा सोचने के साथ, विश्व की एकजुटता पर बल. अफ़ग़ानिस्तान में, ताज़ा हालात पर चिन्ता, सुरक्षा परिषद की बैठक, खाद्य सामग्री की भी क़िल्लत. धनी देशों से WHO की पुकार – कोवैक्स को दें समर्थन, महामारी से निपटने में होगी आसानी. और, यमन में लगातार डर के माहौल और मानवाधिकार हनन प…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... अफ़ग़ानिस्तान में उभर रहा है मानवीय संकट, यूएन एजेंसियाँ मदद में सक्रिय, विश्व से नज़रें नहीं फेरने की अपील. कोरोनावायरस के एक नए वेरिएंट ‘म्यू’ पर नज़र, इस पर वैक्सीनों का असर कम होने की आशंका. विश्व भर में साढ़े पाँच करोड़ से अधिक लोग जी रहे हैं Dementia की अवस्था में जीवन, लगातार बढ़ रही ये संख्या. पिछले 50 …
 
इस सप्ताह के बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... काबुल हवाई अड्डे पर, गुरूवार को हुए विस्फोटों में, सैकड़ों हताहत, हमलों की तीखी अन्तरराष्ट्रीय निन्दा, अफ़ग़ानिस्तान में लगभग एक करोड़ 40 लाख लोगों के सामने है - पेट भरने का संकट, रोहिंज्या शरणार्थी संकट को हुए पाँच साल, यूएन प्रमुख ने लगाई सम्मानजनक म्याँमार वापसी की पुकार, बढ़ रही है हाइपरटैन्शन से पीड़ित लोग…
 
20 अगस्त 2021 के बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... अफ़ग़ानिस्तान में, सत्ता पर तालेबान का दबदबा होने के बाद, आम लोगों में सुरक्षा के लिये बदहवासी, यूएन एजेंसियाँ, लोगों की मदद के लिये मुस्तैद और सक्रिय. आतंकवादी गुटों द्वारा अत्याधुनिक व डिजिटल टैक्नॉलॉजी अपनाने के कारण, ख़तरा और बढ़ा, संयुक्त राष्ट्र ने भी जारी की अपनी डिजिटल परिवर्तन रणनीति. हेती में बीते…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... अफ़ग़ानिस्तान में तेज़ी से सघन होती लड़ाई में नज़र आ रहे हैं एक मानवीय त्रासदी के चिन्ह. IPCC की एक रिपोर्ट में चेतावनी - जलवायु परिवर्तन अति गम्भीर, देर हुई तो मौक़ा निकलेगा हाथ से. WHO ने कोरोनावायरस की जड़ का पता लगाने के लिये लगाई वैश्विक सहयोग की पुकार. सभी देशों से निगरानी टैक्नॉलजी की बिक्री व हस्तान्तरण…
 
रिद्धिमा पाण्डे, भारत की एक युवा जलवायु कार्यकर्ता हैं और स्थानीय समुदायों से लेकर अन्तरराष्ट्रीय मंचों पर जलवायु कार्रवाई के लिये आवाज़ मुखर करती रही हैं. रिद्धिमा उत्तराखण्ड राज्य के हरिद्वार शहर की निवासी हैं और बीबीसी ने वर्ष 2020 में उन्हें शीर्ष 100 महिलाओं की सूची में भी शामिल किया था. 19 अगस्त को विश्व मानवीय दिवस के अवसर पर रिद्धिमा #TheHu…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान के बढ़ते हमलों और हिंसा से उपजी चिन्ताओं के बीच सुरक्षा परिषद में अहम बैठक, अगस्त महीने के लिये भारत है सुरक्षा परिषद का अध्यक्ष. धनी देशों में कोविड-19 टीकों की बूस्टर ख़ुराक दिये जाने पर स्वैच्छिक रोक लगाए जाने की पुकार, निर्बलों के लिये टीके उपलब्ध कराए जाने का आग्रह. लेबनान में भीष…
 
भारत की अवनी अवस्थी एक युवा जलवायु कार्यकर्ता हैं और पिछले अनेक वर्षों से प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करने, रीसायकलिंग व जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिये प्रयासरत हैं. वर्ष 2016 में उन्होंने अन्टार्कटिका एक्सीपीडिशन दल में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया, जिसका उद्देश्य जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूकता का प्रसार करना था. अवनी अवस्थी,…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... विश्व की खाद्य प्रणालियाँ नहीं हैं कुशल, करने होंगे एकजुट व तेज़ प्रयास, कहना है उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद का. डेल्टा वैरिएंट के कारण, कोरोनावायरस के अब भी बढ़ते मामलों पर चिन्ता. दुनिया भर में मानव तस्करी के ख़िलाफ़ व्यापक कार्रवाई का आग्रह. तम्बाकू सेवन के ख़िलाफ़ लड़ाई में मिली है कुछ कामयाबी, मगर मंज़िल ह…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... टोक्यो ओलिम्पिक खेलों की औपचारिक शुरुआत, यूएन प्रमुख ने कहा, मानवता की सर्वोत्तम क्षमताओं व मूल्यों को प्रदर्शित करती है ओलिम्पिक भावना. विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी – ख़त्म नहीं हुई है अफ़्रीकी देशों में कोरोनावायरस संक्रमण की तीसरी लहर. भारी आर्थिक व मानवीय तबाही का कारण बनने वाली प्राकृतिक आपदाओं की सूची…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... WHO की चेतावनी, महामारी के बढ़ते मामलों से, तीसरी लहर के संकेत. कोविड-19 महामारी से निपटने की धुन में, बच्चों का टीकाकरण हुआ दरकिनार. भारत के हरियाणा प्रदेश में लगभग एक लाख लोगों को उनके घरों से जबरन बेदख़ल किये जाने पर मानवाधिकार चिन्ता. एक यूएन मानवाधिकार विशेषज्ञ ने कहा - स्टैन स्वामी की, सरकारी हिरासत में म…
 
9 जुलाई 2021 के साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... बड़ी अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों से, टीकाकरण योजना की आगुवाई करने की पुकार. कोविड-19 से मृतक संख्या 40 लाख के पार, वैरिएंट दौड़ रहे हैं वैक्सीनों से आगे. दुनिया भर के लगभग आधे बच्चों को है - ऑनलाइन व ऑफ़लाइन हिंसा का सामना. म्याँमार में सैन्य सत्ता विरोधियों पर बढ़ रहा है चौतरफ़ा हमलों का दायरा. भारत…
 
2 जुलाई 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- कोरोनावायरस का ख़तरनाक डेल्टा वेरिएंट लगातार बदल रहा है रूप, अब तक 98 देश इसकी चपेट में कोविड-19 प्रभावितों की मदद के लिये देशों ने किये उपाय, मगर धनी और निर्धन देशों में हालात की गहरी खाई वैश्विक महामारी से पर्यटन क्षेत्र पर भीषण असर, चार …
 
विकलांगजन के अधिकारों को बढ़ावा देने के लिये प्रयासरत और फ़िनलैण्ड की एबीलिस फ़ाउण्डेशन में नेपाल के लिये कन्ट्री कोऑर्डिनेटर बीरेन्द्र राज पोखरेल का कहना है कि कोविड-19 महामारी के दौरान विकलांग व्यक्तियों के लिये गम्भीर चुनौतियाँ पैदा हुई हैं, जिनसे निपटने के लिये भावी योजनाओं में उनकी विशिष्ट आवश्यकताओं का ख़याल रखा जाना होगा. विश्व में एक अरब लो…
 
25 जून 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- दुनिया के 80 से ज़्यादा देशों में कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट की दस्तक, यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने जताई चिन्ता वैश्विक टीकाकरण को आगे बढ़ाने के लिये, योरोपीय संघ से अपने प्रभाव और पहुँच का उपयोग करने की अपील पहचान दस्तावेज़ों और राष्ट्रीयता के …
 
योगासन और शारीरिक व मानसिक अनुशासन के ज़रिये ना सिर्फ़ प्रतिरोधक क्षमता को मज़बूती प्रदान करने और कोविड-19 के दुष्प्रभावों से उबरने से मिल सकती है, बल्कि योग को दैनिक जीवन में शामिल करने से, एक स्वस्थ जीवन की नींव भी तैयार की जा सकती है. यह कहना है कि डॉक्टर कृष्णा रामन का, जिन्होंने सोमवार, 21 जून, को ‘अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस’ पर संयुक्त राष्ट्र म…
 
18 जून 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- यूएन महासचिव के दूसरे कार्यकाल के लिये एंतोनियो गुटेरेश की फिर से नियुक्ति, वैश्विक महामारी से दुनिया को उबारने में सहायता - सर्वोपरि प्राथमिकता कोविड-19 के डेढ़ साल बाद भी नहीं हो रहा स्वास्थ्य उपायों का असरदार ढँग से इस्तेमाल टीकाकरण की धी…
 
संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि दो दशकों में पहली बार, बाल श्रमिकों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है. रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि कोविड-19 महामारी के परिणामस्वरूप 2022 के अन्त तक, वैश्विक स्तर पर, 90 लाख अतिरिक्त बच्चों को बाल श्रम में धकेले जाने का ख़तरा है. ‘बाल श्रम: वैश्विक अनुमान 2020, रुझान और आगे की राह’ नामक यह रि…
 
11 जून 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- फिर गहरा रही है बाल मज़दूरी की समस्या, बाल श्रमिकों की संख्या संख्या बढ़कर 16 करोड़ हुई कोविड-19 महामारी के आर्थिक व सामाजिक प्रभावों के कारण लाखों अन्य बच्चों पर जोखिम मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद चुने गए यूएन महासभा के 76वें सत्र…
 
भारत में पिछले दो महीनों में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर ने संकट की स्थिति पैदा कर दी और इस दौरान देश की स्वास्थ्य प्रणाली को भारी चुनौती का सामना करना पड़ा है. साथ ही, महामारी से बचाव और रोकथाम उपायों की वजह से लाखों लोगों की आजीविका और खाद्य सुरक्षा के लिये भी एक बड़ा ख़तरा पैदा हो गया है. भारत के पास खाद्य-आधारित सामाजिक संरक्षा उपाय मौजूद हैं…
 
4 जून 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- लुप्त होती जैव-विविधता, जलवायु व्यवधान और बढ़ता प्रदूषण, दुनिया के समक्ष तीन बड़े ख़तरे पर्यावरण की पीड़ा पर मरहम के लिये संयुक्त राष्ट्र पारिस्थितिकी तंत्र बहाली’ के दशक की शुरुआत महामारी के अन्त और वैश्विक पुनर्बहाली के लिये 50 अरब डॉलर की …
 
28 मई 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- ​कोरोनावायरस वैक्सीन की न्यायसंगत उपलब्धता पर ज़ोर, सितम्बर तक हर देश में, 10 फ़ीसदी आबादी के टीकाकरण का आहवान ​कोविड-19 महामारी की चपेट में भारत, दूसरी लहर, का रूप बहुत अलग, बहुत घातक ​इसराइल और फ़लस्तीन के बीच निरर्थक हिंसा और लोगों की पीड़…
 
21 मई 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------ इसराइल और हमास के बीच युद्धविराम की घोषणा का स्वागत, हिंसा से ग़ाज़ा में बच्चों के लिये उपजे 'नारकीय हालात' साधन सम्पन्न देशों को करनी होगी कोविड-19 महामारी के विरुद्ध लड़ाई की अगुवाई, जी20 समूह की बैठक में यूएन महासचिव की पुकार कोरोनावायरस सं…
 
14 मई 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- क़ाबिज़ फ़लस्तीनी इलाक़ों और इसराइल में हिंसा में तेज़ी, सुरक्षा व मानवीय हालात बेक़ाबू होने की आशंका यूएन महासचिव ने सभी पक्षों से तत्काल लड़ाई रोके जाने की पुकार लगाई 2020 के मुक़ाबले कहीं ज़्यादा घातक साबित हो रहा है कोरोनावायरस संकट का दू…
 
7 मई 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- जंगल में आग की तरह फैल रही है भारत में कोविड-19 संक्रमण की लहर, संयुक्त राष्ट्र बाल कोष की चेतावनी टीकाकरण में तेज़ी लाने और बचाव उपायों को मज़बूती अपनाए जाने की पुकार कोविड-19 वैक्सीन के पेटेण्ट अधिकारों में छूट के लिये अमेरिका से मिला समर्थन…
 
30 अप्रैल 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- भारत में कोविड-19 संक्रमण में हाल में आई बेतहाशा तेज़ी के मद्देनज़र, यूएन एजेंसिया सहयोग में सक्रिय. योरोप में, संक्रमण के मामलों की तुलना में, वैक्सीन की ख़ुराक पाने वालों की संख्या हुई ज़्यादा. जनहित में काम करने वाले मीडिया संगठनों पर …
 
इस सप्ताह के बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत में तेज़ी से बढ़ रहे कोविड-19 संक्रमणों पर जताई गहरी चिन्ता, ख़तरनाक वायरस से निपटने के लिये हर स्वास्थ्य औज़ार का करना होगा इस्तेमाल ​जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया पहुँची रसातल के कगार पर, प्रकृति के साथ समरसतापूर्ण सम्बन्ध सुनिश्चित करने की पुकार ​जलवायु कार्रवाई के दौरान प्रकृत…
 
इस सप्ताह के बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... 57 देशों में, महिलाएँ हैं – अपने शरीर पर अधिकारों और अपने स्वास्थ्य के बारे में अहम फ़ैसले लेने की शक्ति से वंचित. यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त की चेतावनी – म्याँमार में, मौजूदा दमन ले सकता है सीरिया जैसे गम्भीर संघर्ष का रूप. अनेक देशों में कोविड-19 के संक्रमण के बढ़ते मामलों पर WHO ने जताई गहरी चिन्ता. WHO ने ड…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... कोविड-19 वैक्सीन के न्यायसंगत वितरण की ‘कोवैक्स’ पहल के तहत, छह हफ़्तों में 100 से ज़्यादा देशों व अर्थव्यवस्थाओं में साढ़े तीन करोड़ से ज़्यादा ख़ुराकें वितरित. भारत में कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों में तेज़ बढ़ोत्तरी, टीकाकरण मुहिम में तेज़ी के साथ-साथ ऐहतियाती उपायों के सख़्ती से पालन पर ज़ोर. वैश्विक महामा…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... ------------------------------------------------------- महामारियों की रोकथाम के लिये, WHO ने सिफ़ारिश की, एक अन्तरराष्ट्रीय सन्धि की. यूएन प्रमुख ने कहा, सीरिया में युद्ध ख़त्म कराना, अन्तरराष्ट्रीय समुदाय की है सामूहिक ज़िम्मेदारी. म्याँमार में बहुत से लोग सुरक्षा के लिये भागे पड़ोसी देशों को, यूएन एजेंसियों न…
 
Loading …

Краткое руководство

Google login Twitter login Classic login